पढ़ाई में मन कैसे लगायें ? (टिप्स) Padhai Me Dhyan Kaise Lagaye – HR

नमस्कार विद्यार्थियों, क्या आपका भी पढ़ने को मन नहीं करता है ? आप भी सोचते हैं की कल से बहुत ज्यादा पढूंगा लेकिन फिर जैसे ही पढ़ने बैठते हैं, पढ़ने में सब-कुछ बेकार लगने लगता है और आप 2-3 घण्टे भी लगातार नहीं पढ़ पाते हो ।

अगर आप इसी समस्या के समाधान के लिए गूगल पर सर्च कर रहे हो की, पढ़ाई में मन कैसे लगाये ? तो आज की इस पोस्ट में हम इसी बिषय पर विस्तार से चर्चा करेंगे । अगर आप एक बार इस पोस्ट को स्टार्ट से अंत तक पूरा पढ़ लोगे तो फिर आपको ऐसा सर्च करने की दुबारा जरूरत नहीं पड़ेगी ।

बच्चे अपना मन पढ़ाई में कैसे लगा सकते हैं ?

कुछ बच्चों को तो नींद भी आने लगती है । सिर में दर्द होने लगता है और वे किताबें बन्द करके रख देते हैं, अपने मन में सोच लेते हैं की कल पढ़ेंगे । चलिये पहले उन कारणों की बात करते हैं जिस कारण हमें पढ़ाई करना बिल्कुल बेकार लगता है या जिनके कारण हम कहीं न कहीं पढ़ाई से दूर हो जाते हैं –

हमारा दिमाग ―
जी हाँ बच्चों अगर आपको कोई पढ़ने से रोकता है तो वो है आपका मस्तिष्क! आपके पढ़ने में सबसे सहायक भी मस्तिष्क है लेकिन, आपको पढ़ने से रोकने वाला भी आपका मस्तिष्क ही है । अगर आपने अपने मस्तिष्क को अपने वश में कर लिया, तो आप पढ़ाई में मन न लगने वाली दिक्कत से छुटकारा पा लोगे ।

सही वातावरण न मिलना ―
किसी-किसी विद्यार्थी के सामने पढ़ाई में मन न लगने का, यह भी एक बड़ा कारण हो सकता है की, उसे पढ़ने के लिए एक अलग से कमरा न उपलब्ध कराया गया हो । इससे भी बच्चों को काफी परेशानी आती है ।

जब आप छोटी क्लास में होते हो तब तक तो ठीक है, लेकिन जब आप थोड़ी-सी बड़ी कक्षा (जैसे – 10th, 12th) में आते हो तो, आपको पढ़ाई में ज्यादा दिमाग लगाना पड़ता है और उसके लिए आपको सही वातावरण की आवश्यकता होती है ।

शर्मीलापन और हिचकिचाहट ―
शर्मीलापन और हिचकिचाहट भी 2 ऐसे कारण हैं जो कही न कही आपके पढ़ाई में मन के न लगने का कारण है (यह आपको आर्टिकल में आगे पता चलेगा)। अगर आपके अंदर भी यह अवगुण हैं तो इसे आपको जल्दी से जल्दी अपने अंदर से निकाल फेकना चाहिए ।

padhai mein dhayan kaise lagaye, padhai mein man kaise lagaye,

मोबाइल और इंटरनेट ―
ज्यादातर विद्यार्थियों की यह मुख्य समस्या होती है की उनका ज्यादातर समय फेसबुक, यूट्यूब, ट्विटर आदि शोसल मीडिया देखने में निकल जाता है, उनके दिन के बहुमूल्य 4-5 घण्टे वह बेकार की चीजों में ही बर्बाद कर देते हैं । जिसके कारण फिर वे कहीं न कहीं पढ़ाई से दूर होते जाते हैं ।

गलत बच्चों की संगत ―
अगर आपको अच्छा विद्यार्थी बनना है, तो आपको सबसे पहले अच्छे विद्यर्थियों की संगत में रहना होगा (अच्छे विद्यार्थियों के साथ रहना होगा) । अगर आप गलत यार-दोस्तों में रहते हो तो भी मेरा मानना है की आप धीरे-धीरे कहीं न कहीं मूर्ख बनते चलते जाओगे । (कैसे..? इसपर आगे बात करेंगे ।)


अभी तक हमने बात की कौन सी ऐसी चीजें हैं जिनके कारण आपका मन पढ़ाई से दूर होता जा रहा है । ये कौन सी ऐसी चीजें हैं जो आपकी बुद्धि को भ्रष्ट कर रही है । हमनें बात की वे क्या कारण है जिनसे हमरा मन पढ़ाई से दूर जाने को करता है, हमारा बहुत सारा समय बर्बाद होता है ।

अब हम बात करेंगे की हम अपना मन पढ़ाई में कैसे लगायें ? इसमें हम आपको कुछ तरीको के बारें में बताएँगे, अगर आप उन्हें फॉलो करते हैं, तो आप देर तक आराम से मन लगाकर पढ़ सकते हैं ―

पूरी नींद लेने के बाद पढ़े ―

अगर आप भी उन विद्यार्थियों की तरह हो जिन्हें, पढ़ने से नींद आने लगती है, (कई बार इस कारण भी पढ़ाई में मन नही लगता) या कुछ समय पढ़ने के बाद नींद आने लगती है, तो आपके लिए यह तरीका उत्तम होगा ।

आपको ऐसे समय पढ़ना जरूर चाहिए जब आप पूरी नींद लेकर उठे हों । जैसे, आप सुबह जरूर पढ़ें, जब भी आपके सुबह उठने का समय हो, उसके बाद आपको कम से कम 4-5 घण्टे तक बिल्कुल नींद नहीं आएगी, आप इस समय आसानी से पढ़ाई कर सकते हैं, जिससे आपका पढ़ने में भी मन लगेगा ।

अगर आपसे सुबह नहीं उठा जाता तो, आप हमारी यह पोस्ट पढ़ सकते हैं – सुबह जल्दी कैसे उठे ?

पूर्ण आत्मविश्वास से पढ़ाई करें ―

अगर आप यह सोचते हैं कि आप में ओर बच्चों से दिमाग कम है, तो आप अपने आप को केवल और धोखा दे रहे हैं क्योंकि, ज्यादातर ऐसा नहीं होता है । सभी बच्चों का दिमाग लगभग एक जैसा ही होता है ।

अगर आप इन विचारों के साथ पढ़ने बैठते हो की, आपसे यह बिषय या यह प्रश्न याद नही होगा, तो आपसे वह 100% नहीं होगा । आप दो तरीकों से अच्छे से पढ़ सकते हो, पहला – जिम्मेदारी, दूसरा – डर ।

अब अगर इनमें से एक भी चीज नहीं है तो, आपका मन भी पढ़ाई या किसी भी चीज में नहीं लगेगा । इसका अनुभव आप परीक्षा के दौरान कर सकते हैं, परीक्षा से एक दिन पहले लगभग हर विद्यार्थी पढ़ाई करता है ।

क्या आप जानते हैं ऐसा क्यों होता है ? ऐसा डर के कारण होता है, क्योंकि हर विद्यार्थी के मन में फेल होने का डर रहता है, इसलिए सभी विद्यार्थी पढ़ाई करते हैं ।

अगर आप हर दिन यह सोचकर पढ़ेंगे की, कल हमारे एग्जाम हैं, तो आप ज्यादा अच्छे से मन लगाकर पढ़ पाओगे । इससे आप कम समय में ज्यादा भी याद कर सकते हैं ।

Leave a Comment