गांव में एक हॉल से कमाए ₹6000 महीना, इसके बारे में नहीं जानते ज्यादातर लोग

Village Business Idea: यह काम अभी शहर के लोगों द्वारा ज्यादा किया जा रहा है लेकिन, थोड़े ही दिनों में गांव में भी इसकी डिमांड बहुत ज्यादा बढ़ने वाली है। अगर आपके गांव की जनसंख्या डेढ़ से 2000 या 3000 लोगों तक भी है तो, आपको इस कार्य से पैसा कमाने में ज्यादा मसक्कत करनी नहीं पड़ेगी।

बिज़नेस आईडिया एजुकेशन के क्षेत्र से संबंधित है, जिसमें आपको मात्र एक खाली हॉल की जरूरत होगी और साथ में आपके 10 से ₹15000 और भी लगेंगे। आपको इस हॉल को एक लाइब्रेरी में बदलना होगा। शायद आपको लगे की लाइब्रेरी से आप कितना ही कमा लेंगे या फिर गांव में यह क्या ही चलेगी? (आइडिया को समझने में जल्दबाजी ने दिखाएं)

Image पर क्लिक करें और सीक्रेट टिप्स जानें.

आपको बता दें कि इस समय यह काफी ज्यादा चलन में है। अगर आपके गांव में इस तरह से किसी ने शुरुआत नहीं की है तो आप सबसे पहले इसको शुरू करने का लाभ उठा सकते हैं। आपको किस तरह की लाइब्रेरी बनानी है और आपके बिना कुछ किए आपको पैसा कैसे मिलेगा, इसकी जानकारी आगे बताई गई है।

कैसे बनेगी लाइब्रेरी?

खाली हॉल में आपको कुछ मेज और कुछ कुर्सियों की व्यवस्था करनी होगी साथ ही आपको इंटरनेट की सुविधा भी लाइब्रेरी में उपलब्ध करानी होगी। इसमें आपको किताबें रखने की जरूरत नहीं होती है।

इस पूरे फर्नीचर और वाईफाई में आपका लगभग 10 -15000 का खर्च आ जाएगा लेकिन, अब यह हॉल आपको इनकम करके देने के लिए तैयार है। इससे आप अलग-अलग तरह से पैसे कमा पाएंगे।

1. शुरू करें ट्यूशन सेंटर –

अगर आप खुद भी बच्चों को पढ़ा सकते हैं और आपके पास भी BEd की डिग्री है तो, आप खुद का कोचिंग सेंटर शुरू करके अच्छी खासी इनकम कर सकते हैं। इसमें आप अपने आसपास के गांव या अपने गांव के कुछ बच्चों को ट्यूशन पढ़ाकर महीने के आराम से 5-₹6000 कमा सकते हैं।

आपके पास सबसे ज्यादा बच्चे इसलिए आएँगे क्योंकि, बच्चों और उनके मां-बाप को भी लगेगा कि आपके पास पढ़ाने के लिए सही स्थान है, और यह तो आप भी जानते हैं की ‘जो दिखता है वही बिकता’ है।

ऐसे में मात्र रोज के 1 से 2 घंटा लगाकर, इस खाली पड़े होल की मदद से आप महीने के 5-6000 रूपये या इससे भी कहीं ज्यादा बड़ी आसानी से कमा पाएंगे।

2. बच्चे करते हैं सेल्फ स्टडी –

खासकर शहरों में लाइब्रेरी का इस्तेमाल प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे बच्चों द्वारा किया जाता है। जिसमें वे अपनी पुस्तक खुद लाते हैं और लाइब्रेरी में एकांत में बैठकर पढ़ाई करते हैं। कुछ बच्चे इंटरनेट के जरिए पढ़ाई करते हैं इसलिए लाइब्रेरी में इंटरनेट की सुविधा होना बहुत जरूरी है।

गांव में भी है काम इसलिए चल सकता है क्योंकि गांव के बहुत सारे बच्चे प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करते हैं। ऐसे में अच्छे माहौल के लिए वह आपको शहर जितना तो नहीं लेकिन, 300 से ₹400 महीना आसानी से दे सकते हैं।

ऐसे में यदि आपके पूरे गांव में से या आसपास के गांव में से भी 15 बच्चे मिल जाते हैं, जो पूरी लगन और मेहनत से पढ़ाई करना चाहते हैं तो ₹400 महीना के हिसाब से आप महीने के ₹6000 आसानी से कमा पाएंगे।

3. प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कराएं –

आप इसको एक कोचिंग सेंटर की तरह ही बना सकते हैं और कुछ टीचर्स को लाकर, एक प्रतिष्ठित कोचिंग सेंटर को शुरू कर सकते हैं।

आज के समय में हर बच्चा पढ़ना चाहता है, वह सरकारी नौकरी करना चाहता है। ऐसे में आपको इससे नुकसान होने की संभावना बहुत ज्यादा काम है।

4. लाइब्रेरी बन सकती है ट्यूशन सेंटर –

कई बार टीचर दूसरे गांव में बच्चों को पढ़ने जाते हैं, तब उन्हें पढ़ाने के लिए सही माहौल वाली, सही जगह नहीं मिल पाती है। गांव में पड़ा हुआ खाली हॉल आप किसी टीचर को किराए पर दे सकते हैं।

2 घण्टे के 2 हजार कमाए – ट्यूशन के एक बैच में लगभग 10 से 15 बच्चे होते हैं। आप यदि अपनी लाइब्रेरी में एक टीचर को दो बैच पढ़ने की परमिशन देते हैं तो वह आपको आराम से 1000 से ₹2000 महीना तक दे सकता है।

Leave a Comment