इस शेयर में पैसा लगाया होता तो 9 महीने में हो जाते मालामाल, अडानी ग्रुप के इस शेयर ने किया कमाल

अडानी का पावर वाला शेयर:  “Adani Power” का शेयर प्राइस फिर से बना रहा है नये मुकाम। पिछले नौ महीने में दिए हैं काफी अच्छे रिटर्न्स। अगर आपने भी गिरावट के वक्त पैसा लगाया होता तो, कभी नहीं होता अफ़सोस क्योंकि, तब से अब यह 186.72% बढ़ चुका है।

जैसे ही इस साल के शुरुआत में फ़रवरी के महीने में हिंडनबर्ग की रिपोर्ट आई की, अडानी के शेयर्स की कीमत गलत तरीके से बढ़ाई गई है, वैसे ही लोगों ने अडानी की कंपनियों से अपना पैसा तेजी से निकालना शुरू कर दिया। इसके बाद अडानी की कम्पनियों के शेयर प्राइस तेजी से गिर गए थे, जिसमें अडानी पावर का शेयर भी गिरकर 132 रूपये के आसपास पहुँच गया था। लेकिन उसके बाद इस शेयर ने फिर से चढ़ना शुरू कर दिया था।

Image पर क्लिक करें और सीक्रेट टिप्स जानें.

जिन भी लोगों ने इसमें इसकी गिरावट के वक्त पैसा लगाया था, उनके अब तक का प्रॉफिट देखें तो काफी अच्छा है क्योंकि, इस समय नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर इसकी कीमत इस समय लगभग 440 रूपये के आसपास चल रही है। इस शेयर ने जब से बढ़ना शुरू किया था, पिछले लगभग नौ महीने में उतनी तेजी से कभी नहीं गिरा और इन्वेस्टर्स को अच्छे रिटर्न्स ही दिए हैं। पिछले 1 महीने में इन्वेस्टमेंट रिटर्न्स की बात करें तो, वह  लगभग 20.59% का है।

अमेरिका की एक बड़ी ने कंपनी हिंडनवर्ग ने इस साल के पहले महीने ही अडानी शेयर शेयर की शॉर्ट सेलिंग की और उसने भी काफी अच्छा प्रॉफिट कमाया क्योंकि, उसके बाद जैसे ही हिंडनवर्ग की रिपोर्ट के बारे न्यूज़ चैनल्स ने बात करना शुरू किया अडानी के शेयर धड़ाम से नीचे आ गए थे।

इस कंपनी की रिपोर्ट में अडानी ग्रुप की कंपनियों के शेयरों का मूल्य  85% तक ज्यादा बताया गया था, जिसको गलत तरीके से बढ़ाया हुआ बताया गया था। जिसके बाद से अडानी ग्रुप की कंपनियों के शेयरों में गिरावट हावी हो गया, जो अभी भी जारी है।

हालांकि अडानी ग्रुप के बाकी शेयर अभी भी हिंडनबर्ग के झटकों से उबर नहीं पाए हैं लेकिन, अडानी पॉवर के शेयर ने पिछले महीने 29 नवंबर को ऑलटाइम हाई लगाया है। रिपोर्ट आने के समय इस शेयर की कीमत 275 थी जबकि, रिपोर्ट के बाद 132 रूपये के आसपास पहुँच गई थी लेकिन, आज यह 440 रूपये पहुँच चुकी है। इस शेयर का 52 वीक हाई 470.80 रुपये है। इस शेयर ने निवेशकों के पैसों को तीन गुना तेजी से बढ़ाया है, मतलब अगर आपने आज से नौ महीने पहले शेयर प्राइस गिरने के समय पैसा लगाया होता तो, वह आज डेढ़ लाख की बड़ी रकम बन चुकी होती।

आपको बता दें की अडानी ग्रुप की 10 कंपनियां शेयर बाजार में लिस्टेड हैं। जिनमें से ज्यादतर अब भी काफी दबाव में हैं। खासकर अडानी टोटल गैस, अडानी एंटरप्राइजेज, अडानी ग्रीन, अडानी ट्रांसमिशन और अडानी विल्मर के शेयर हिंडनबर्ग से भी भी प्रभावित हैं, इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं की,  कुछ कंपनी अभी भी अपने ऑल टाइम से करीब 60-70 % नीचे ही हैं।जिसमें मुख्यतः अडानी टोटल गैस, अडानी ट्रांसमिशन और अडानी विल्मर शामिल हैं।

अडानी पॉवर: कंपनी का लाभ 9 गुना बढ़ गया है जोकी, 6,594 करोड़ है। यही कारण है की कम्पनी के शेयर ने काफी अच्छी बढ़त हासिल की है। कंपनी का कहना है की, ‘अडानी पावर का एकीकृत शुद्ध लाभ चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 848 प्रतिशत उछलकर 6,594 करोड़ रुपये रहा’। गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक, राजस्थान, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और झारखंड में कंपनी के आठ बिजलीघर हैं।

Leave a Comment