बुक पढ़ने की आदत कैसे बनाए (अनेक फायदे) Book Padhne Ki Aadat Kaise Dale

Book Padhne Ki Aadat Kaise Dale – बुक पढ़ने के आदत आपकी जिंदगी को जादुई रूप से बदलने की ताकत रखती है। आप खुद ही सोचें की जो अनुभव किसी व्यक्ति ने अपनी पूरी जिंदगी लगाकर सीखें हैं, आप उसे केवल कुछ ही घण्टों सकते हैं, यह कितनी बड़ी बात है।

आचार्य चाणक्य ने भी कहा है की, दूसरों के अनुभवों से सीखों को सभी प्रयोगों को खुद के ऊपर करके सीखने से आपकी जिंदगी कम पद जाएगी। अगर आप किताब पढ़ने की आदत को अपने अंदर विकसित करने में कामयाब हो जाते हैं तो, उन सभी लोगों से आगे निकल जाओगे जो उन गलतियों को करेंगे, जिनके बारे में आपने दूसरों के अनुभव से सीख लिया है।

Image पर क्लिक करें और सीक्रेट टिप्स जानें.

किताब पढ़ने से आपको आपके बहुत सारे ऐसे प्रश्रों का उत्तर मिलेगा जिसकी आपको शायद तलाश हो क्योंकि, दुनिया में एक से बढ़कर एक बुद्धिजीवी है।

बुक पढ़ने की आदत बनाने के तरीके –

चाहे आप धार्मिक पुस्तक पढ़ें या किसी महान व्यक्ति द्वारा लिखी कोई ज्ञानबर्द्धक बुक, दोनों ही आपके सोचने के तरीके और आपके व्यक्तित्व को निखारने का कार्य ही करेंगी, इसलिए किताब पढ़ना बहुत जरूरी है।

इस पोस्ट में बताए सभी 5 तरीकों को फॉलो करके, आप भी अपने अंदर रोज किताब पढ़ने की आदत को विकसित कर सकते हैं –

अपनी रूचि का बिषय चुनें –

ऐसा बिषय जिसमें आपकी रूचि है, उससे सम्बंधित चीजें जानने में आपको आलस नहीं आएगा या ऐसा बहुत कम बार ही होगा, जब आप मन नहीं करेगा।

शुरुआत में आप रोज आने वाली समस्याओं का समाधान बताने वाली किताब पढ़ सकते हैं। जैसे यदि आप अपना बनाया हुआ टाइम टेबल फॉलो नहीं कर सकते हैं तो, आपको टाइम मैनेजमेंट से सम्बंधित किताब जरूर पढ़नी चाहिए।

इसमें आपको पढ़ते वक्त बोझ नहीं लगेगा और आपका मन भी नयी-नयी चीजों को सीखने का करेगा।

रोज 1 पेज पढ़ें –

अगर आपको उपरोक्त तरीके को फॉलो करने के बाद भी किताब पढ़ने का मन नहीं करता है तो, आपको नियम बना लेना है की आप रोज किसी भी अच्छी किताब का एक पेज जरूर पढ़ेंगे।

आपको इस नियम को तोड़ना नहीं है, चाहे आपको कितनी ही जल्दबाजी में एक पेज पढ़ना पड़े लेकिन, उसको पढ़ने के पहले आप सोने नहीं जाएंगे आपको ऐसा नियम बनाना होगा।

अगर आप ऐसा करते है तो, शुरुआत में आपको थोड़ी कठिनाई हो सकती है, लेकिन जैसे-जैसे दिन बीतते जाएंगे आपको किताब पढ़ने की आदत हो जाएगी।

शांत वातावरण का चयन करें –

अगर आपके पास शांत वातावरण नहीं है, जैसे ही आप किताब पढ़ने बैठते हैं कोई कोई आवाज लगाने लगता है तो, किताब पढ़ने का मन कैसे करेगा?

आपको किताब पढ़ने का समय सुबह सवेरे या रात को सोने से पहले रखना चाहिए। इस समय एकांत होता है और आपको पढ़ने में मन लगता है।

मोबाइल से दूर रहें –

जब आप किताब पढ़ने बैठे कम से कम उस आधे या एक घण्टे के लिए अपने इस अच्छे दिखने वाले खतरनाक दोस्त को अपने से दूर रखें। यह आपका मन किताब में लगने ही नहीं देगा।

चाहे आपका मन यह करे की क्यों न इस किताब की समरी सुन ली जाए लेकिनं, आपको ऐसा नहीं करना है। किसी भी किताब की समरी मोबाइल में सुनने पर आपको वे फायदे नहीं मिलेंगे, जो किताब पढ़ने पर मिलते हैं।

पतली-पतली किताबे पढ़ें –

शुरुआत में बहुत मोटी किताब को पढ़ना शुरू नहीं करना है बल्कि, शुरुआत में पतली-पतली किताब को चुनना है। किताब को पूरा पढ़ने के बाद जब आप एक बार किताब में बताई प्रत्येक अनमोल जानकारी के बारे में सोचेंगे तो, आपको थोड़ा कॉन्फिडेंस भी फील होगा की आपने एक पूरी किताब पढ़ ली और ये-ये सीख भी ली।

जब आप छोटी-छोटी कुछ किताब पढ़ लें तो, अब आप बाद-बड़ी दिखने वाली भरी-भरकम किताबों के पढ़ने के बारे में सोच सकते हैं क्योंकि, अब तक आपको किताब पढ़ने की आदत हो गई होगी और अब पढ़े बिना आपको नींद भी नहीं आएगी।

अच्छी किताब से पढ़ना शुरू करें –

कई बार हमारा मन किसी किताब को पढ़ने का नहीं करता है लेकिन, जब बात धार्मिक किताबों को पढ़ने की हो तो काफी सारे लोग आगे आ जाते हैं। आप शुरुआत गीता जैसी पवित्र पुस्तक पढ़ने से कर सकते हैं।

जब आप इसे पढ़ना शुरू करेंगे तो, आपको आपके बहुत सारे प्रश्रों के जबाब मिलेंगे और आपका मन आगे पढ़ने को भी करता रहेगा। मुस्लिम कुरान पढ़ने से शुरुआत कर सकते हैं या अन्य किसी भी पुस्तक से शुरू कर सकते हैं।

पढ़ने के लिए अच्छा ग्रुप चुनें –

वैसे ज्यादातर लोग किताब को ग्रुप में बैठकर नहीं बल्कि अकेले में ही पढ़ते हैं लेकिन, अगर आपके जानने वाले कुछ ऐसे व्यक्ति हैं, जिनको किताब पढ़ने का शौक है तो आप चाहे अलग-अलग पढ़ें लेकिन, एक किताब पढ़ें।

अब आप उस किताब को पढ़कर मिलने वाली सीख को आपस में चर्चा का मुद्दा बना सकते हैं। इससे आप उस किताब के बारे में और ज्यादा अच्छे से जान पाएंगे साथ ही आप ध्यान से भी पढ़ेंगे क्योंकि, आपको इसमें बताए प्रत्येक महत्वपूर्ण पहलू पर बात भी करनी है।

रोज किताब पढ़ने के फायदे –

जो लोग रोज किताब पढ़ते है, उनको इसके बहुत सारे फायदे होते हैं। कुछ लोग तो सीक्रेट शेयर ही नहीं करते हैं। आइये हम आपको बताते हैं की रोज किताब पढ़ने के क्या-क्या फायदे हैं?

  • आपकी पढ़ने और समझने की स्पीड बढ़ जाती है।
  • अच्छी किताब पढ़ने से आपकी सोच में सकारात्मक बदलाब आते हैं।
  • रोज किताब पढ़ने से आपका दिमाग तेज होता है।
  • आप अन्य लोगों से ज्यादा अच्छे तरीके से प्लानिंग कर पाते हैं।

अंतिम शब्द –

आशा करता हूँ आपको पोस्ट पसंद आयी होगी और अब आप भी किताब पढ़ने की एक शानदार आदत को विकसित करने जा रहे हैं तो, क्यों न इस आदत के बारे में ज्यादा से ज्या

Leave a Comment